51 वें फ़िजी दिवस पर हुआ हिन्दी सेवियों का सम्मान

51 वें फ़िजी दिवस पर हुआ हिन्दी सेवियों का सम्मान

रिपोर्ट: सुनित नरूला :

नई दिल्ली : भारत में फ़िजी के उच्चायोग ने “इन्टरनेशनल काउंसिल फॉर वर्ल्ड अफेयर्स” के सहयोग से 51वें फिजी दिवस का आयोजन नई दिल्ली के फॉरेन कोरोस्पोडेंट क्लब में किया। कार्यक्रम में फ़िजी के उच्चायुक्त श्री कमलेश प्रकाश उनकी धर्मपत्नि व उच्चायोग के पदाधिकारी सम्मलित हुए। भारत की ओर से राज्यसभा सांसद और राजभाषा समिति के सयोजक श्री रामचंद्र झांगड़ा, सांसद श्री मनोज तिवारी व सांसद श्री दानिश अली सम्मलित हुए। स्वप्रथम संस्था के महासचिव डा. आशीष गुप्ता ने दोनों देशों का राष्ट्रगान सम्पूर्ण कराया। तत्पश्चात फ़िजी के उच्चायुक्त श्री कमलेश प्रकाश ने भारत-फ़िजी सम्बंधी पर चर्चा की और संस्था का धन्यवाद किया। संस्था के महासचिव डा. आशीष गुप्ता ने संस्था का परिचय दिया, फ़िजी-भारत सम्बंधो व श्री कमलेश प्रकाश के व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। तत्पश्चात श्री रामचंद्र झागंडा ने हिन्दी और भारत-फिजी सम्बंधो पर चर्चा की। सांसद श्री मनोज तिवारी ने सभी का अभिवादन किया और गीत सुनाए तत्पश्चात केक सेरेमनी का आयोजन किया गया। डा. आशीष गुप्ता ने मंच डा. प्रवीन गुप्ता को सौंपा। उल्लेखनीय है डा. प्रवीन गुप्ता इन्टरनेशनल काउंसिल फॉर वर्ल्ड अफेयर्स के महानिदेशक व अंतरराष्ट्रीय हिन्दी समिति के महासचिव है।

डा. प्रवीन गुप्ता ने अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी समिति का संक्षिप्त परिचय दिया। कार्यो की रूपरेखा बताई। भविष्यगामी योजनाओं पर चर्चा की। इस अवसर पर संस्था ने फ़िजी के उच्चायुक्त श्री कमलेश प्रकाश को हिन्दी साहित्य सेवा के लिए “साहित्य भूषण”, सांसद श्री रामचंद्र झांगड़ा को हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए साहित्य भूषण, समाजसेवी डा. जे. पी. गोयल को हिन्दी के उन्नयन और खाद्य सामग्री और दवाईयों पर हिन्दी भाषा की अनिवार्यता के आंदोलन पर “साहित्य भूषण” कॉर्पोरेट जगत से जुड़े होने के बावजूद देश-विदेश में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए बैठक आयोजित करने के लिए डा. विनोद वर्मा का साहित्य भूषण, प्रख्यात कवि, लेखक व अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी समिति की अमेरिका के 29 व कनाडा के 10 शहरों में शाखा स्थापित करने वाले डा. सोम ठाकुर को “साहित्य भूषण”, सेंट जॉन्स कॉलेज, आगरा के हिन्दी विभाग के प्रमुख व 150 से अधिक विद्यार्थियों को पीएचडी कराने वाले विश्व हिन्दी सम्मेलनों में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले, डा. श्री भगवान शर्मा व अन्तरराष्ट्रीय ख्याती प्राप्त कवि डा. राज कुमार रंजन को साहित्य भूषण प्रदान किया।

Spread the love