सर्दियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं

कहने को तीन बड़े मौसम होते हैं- सर्दी, गर्मी और बरसात। अगर हर मौसम का अपना मजा है तो कहीं न कहीं उसकी कुछ सजा भी उसके साथ जुड़ी होती है। अब बरसात के जाते ही धीरे-धीरे ठंड अपने कदम हमारी ओर बढ़ा रही है। ठंड जिसे हम सर्दी या शीत भी कहते हैं। गर्मी व बरसात के बिल्कुल विपरीत यह मौसम अपने साथ कई खुशियां और मजे लाता है तो साथ में कई तरह की परेशानियां भी पैदा करता है।

सर्दी में न तो पसीने की बदबू या चिपचिपाहट सताती है और न ही जानलेवा गर्मी विचलित करती है। सर्दियों में खाने के कई अधिक विकल्प हमारे सामने खुल जाते हैं और खाते समय यह चिंता भी नहीं सताती कि ये पचेगा या नहीं। शायद  इसीलिए हर कोई रजाई में छिपने के लिए और रंग बिरंगे खाने का मजा उठाने के लिए सर्दियों का बेसब्री से इंतजार करता है। मगर, सर्दियों के मौसम में लोगों की इम्युनिटी यानी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। बड़े हों या बूढ़े, हर कोई सर्दी खांसी का शिकार तो होता ही है। सबके काम करने की क्षमता भी कम हो जाती है। इसलिए, सर्दियों का भरपूर मजा उठाने के लिए हमें अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ानी चाहिए। इसके लिए हमें अपने खानपान का विशेष ख्याल रखना चाहिए।

सर्दियों में गरम चीजों का सेवन अधिक करना चाहिए जैसे सूप, अदरक की चाय आदि। हमें उन चीजों को अपने भोजन में अवश्य शामिल करना चाहिए जो कि बीटाकेरोटीन और विटामिन ए से भरपूर हों। दरअसल, बीटाकेरोटीन शरीर में विटामिन ए को संतुलित करता है और स्वयं भी विटामिन ए में परिवर्तित होता है। इससे शरीर में संक्रमण पैदा होने के खतरे भी बहुत हद तक कम हो जाते हैं। बीटाकेरोटीन के मुख्य स्रोत हैं- गाजर, पालक, भोपला व शकरकंद आदि। इसके अलावा अपने आहार में विटामिन ए व जिंक आदि से भरपूर चीजों को भी शामिल करना चाहिए क्योंकि इससे भी हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और संक्रमण से लडने में मदद मिलती है। इसके लिए हमें अपने भोजन में लाल व हरे शिमलामिर्च, हरी मिर्च, संतरा, मौसमी व बेरी आदि का सेवन करना चाहिए।

सर्दियों में गुड़ का सेवन करना भी अच्छा माना जाता है। गुड़ खाने के बाद शरीर में गर्माहट पैदा होती है। इसमें विटामिन, मिनरल, जिंक आयरन आदि प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है। ठंड लगने के कारण हमारा रक्त संचार धीमा हो जाता है तो गुड़ उसकी गति बढ़ाता है व पाचन प्रक्रिया भी मजबूत करता है। इसलिए गुड़ का सेवन अवश्य करना चाहिए।

-प्रस्‍तुति: सोनी राय

Spread the love