बैंक आॅफ बड़ौदा को अब मिलेगी तीन की शक्ति; सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बनेग


#भारत में बैंकों को पहला तीन-तरफा समेकन
संयुक्त बैंक के पास 9,500 से अधिक शाखाएं, 13400 से अधिक एटीएम, 85000 से अधिक कर्मचारी होंगे, जो 120 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करेंगे और बैंक के पास 15 लाख करोड़ से अधिक का मिश्रित कारोबार होगा
विविधतापूर्ण उत्पादों एवं सेवाओं की श्रृंखला की व्यापक पहुंच के चलते ग्राहकों को लाभ मिलेगा
महत्वपूर्ण रूप से लागत एवं राजस्व सहक्रियाएं
सभी कर्मचारियों के हित की रक्षा की जायेगी

लखनऊ, 01 अप्रैल, 2019ः 1 अप्रैल, 2019 से, बैंक आॅफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक तीनों बैंकों का एक में विलय हो जायेगा और भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक का निर्माण होगा। सितंबर 2018 के अंत तक तीनों बैंकों के बोर्ड्स ने इस समेकन के लिए लिखित अनुमति दे दी थी और यह प्रक्रिया रिकाॅर्ड समय में पूरी कर ली गई है।

भारतीय रिजर्व बैंक की 30 मार्च, 2019 की तिथि की अधिसूचना के अनुसार, विजया और देना बैंक की सभी शाखाएं 1 अप्रैल 2019 से बैंक आॅफ बड़ौदा की शाखाओं के रूप में काम करेंगी। विजया और देना बैंक के जमाकर्ताओं सहित सभी ग्राहकों को उक्त तिथि के बाद से बैंक आॅफ बड़ौदा का ग्राहक माना जायेगा।

समेकित बैंक
यह समेकित बैंक देश के सार्वजनिक क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा बैंक होगा। इससे इसकी भौगोलिक पहुंच बढ़ेगी और इसकी शाखाओं की संख्या 95,00$, एटीएम की संख्या 13400$ और कर्मचारियों की संख्या 85,000$ होगी, जो 120 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सेवा उपलब्ध करायेंगे। समेकन के बाद, बैंक का मिश्रित कारोबार 15 लाख करोड़ रु. से अधिक का होगा और इसके जमा एवं अग्रिम क्रमशः 8.75 लाख करोड़ से अधिक व 6.25 लाख करोड़ से अधिक होंगे।

बैंक की योजना तीनों बैंकों की सम्मिलित क्षमता, उनकी सहक्रियाओं को उपयोग में लाने की है और व्यापक ग्राहक आधार के साथ संबंध को गहरा बनाते हुए परिचालनों को बढ़ाने की है। महाराष्ट्र, गुजरात, केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक एवं आंध्र प्रदेश में पूरक शाखाओं का नेटवर्क बढ़ जायेगा। गुजरात में बैंक के पास 22 प्रतिशत की बाजार हिस्सेदारी होगी, और महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश में बाजार हिस्सेदारी 8 से 10 प्रतिशत के बीच होगी।

ग्राहकों को लाभ
तीनों बैंकों के सभी ग्राहकों को इस प्रक्रिया का लाभ मिलेगा। 120 मिलियन से अधिक ग्राहक बेहतरीन बैंकिंग सेवा का अनुभव ले सकेंगे और नकद प्रबंधन समाधान, आपूर्ति श्रृंखला वित्तपोषण, वित्तीय प्लानिंग, संपत्ति प्रबंधन सेवाओं आदि सहित व्यापक प्रोडक्ट रेंज का लाभ उठा सकेंगे। 22,000 से अधिक टच प्वाॅइंट्स एवं वर्द्धित ग्राहक पहुंच के साथ, ये लाभ और भी अधिक बढ़ जायेंगे। तीनों बैंकों के एनआरआई ग्राहकों के लिए अब भारत में विशाल नेटवर्क उपलब्ध होगा।

बैंक ऑफ बड़ौदा के एनेलेटिक्स एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड टेक्नोलॉजी में उत्कृष्टता केंद्र बेहतर प्रक्रियाओं और क्रॉस सेलिंग को बढ़ाने में सक्षम होंगे।

देना बैंक के ग्राहकों के पास क्रेडिट सुविधाओं तक तुरंत पहुंच होगी। विदेशी मुद्रा कोष अब विजया बैंक और देना बैंक के ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगा, क्योंकि उनके पास 101 कार्यालयों में बैंक ऑफ बड़ौदा की अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिति होगी। एसआरटीओ फंडिंग, वृक्षारोपण वित्तपोषण जैसे विजया बैंक के अनूठे कार्यक्रम अन्य दो बैंकों के ग्राहकों के लिए उपलब्ध होंगे।

Editor

Syed Afzal Shah Maududi