दशमेश पिता के प्रकाश गुरुपर्व के उपलक्ष्य में नगर कीर्तन सजाया

नई दिल्ली (6 जनवरी 2019)ः साहिब श्री गुरू गोबिन्द सिंह जी के प्रकाश गुरुपर्व के उपलक्ष्य में दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा नगर कीर्तन युगों युग अटल श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की छत्रछाया में एवं पांच प्यारे साहिबानों के नेतृत्व में गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब से अरदास के बाद आरम्भ होकर तालकटोरा रोड, शंकर रोड, रजिन्दर नगर, पटेल नगर, शादीपुर डिपो, मोती नगर, कीर्ति नगर, रमेश नगर, राजा गार्डन, राजौरी गार्डन, टैगोर गार्डन, सुभाष नगर, तिलक नगर, जेल रोड से होता हुआ देर शाम गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा ‘ए’ ब्लाॅक, फतेह नगर पहुंच समाप्त हुआ। इस अवसर पर हरमीत सिंह कालका एवं मनजिन्दर सिंह सिरसा ने संगतों को प्रकाशपर्व की बधाई देते हुए कहा कि गुरु गोबिन्द सिंह जी ने गुरुगद्दी की जिम्मंेदारी संभालते ही सिखों में जोश भरने एवं जालमों के साथ टक्कर लेने के लिए शस्त्र विद्या के अभ्यास को और तेज कर दिया। उन्होंने सिखों में वीर रस भरने के लिए बाणी का उच्चारण किया। 1699 की बैसाखी को पांच प्यारों का चुनाव कर गुरु साहिब ने खालसा पंथ सजाया। इससे मुगल एवं हिन्दु पहाड़ी राजाओं के साथ आये दिन लड़ाईयां होने लगी। हकूमत द्वारा अनेकों बार हमले किये गये पर हर बार गुरु साहिब विजयी रहे। गुरु साहिब का सम्पूर्ण जीवन ही अत्याचारों एवं असहिष्णुता विरूद्ध संघर्ष करते हुए बीता। उन्होंने गरीब प्रजा की रक्षा के लिए अपना सरबंस वार दिया। उन्होंने सदा चढ़दीकला मंे रह कर जालमों को ललकारते हुए उनका डट  कर मुकाबला किया।
नगर कीर्तन मंे सजी हुई गाड़ी मंे नगाड़ा, सभी खालसा स्कूलों-काॅलेजों के विद्यार्थी बैंड बाजों सहित, निहंग सिंह, लाडली फौजें (घुड़सवार), जहां नगर कीर्तन की शोभा बढ़ा रहे थे वहीं झाडू़ सेवक जत्थें श्रद्धापूर्वक सेवा कर रहे थे। शब्दी जत्थे, अखंड कीर्तनी जत्थे कीर्तन द्वारा संगतों को नाम सिमरन से जोड़ रहे थे। नगर कीर्तन मंे कई शस्त्रविद्या दल के आखाड़े शस्त्रविद्या के जौहर दिखा रहे थे। मार्ग मंे गुरु महाराज का स्वागत करने के लिए जगह-जगह क्षेत्र की संगतों ने स्वागती गेट बनाये हुए थे। गुरू का लंगर हर जगह अतुट बांटा जा रहा था। संगतों की सुविधा के लिए सेवक जत्थांे ने छबीलें, मेडिकल एवं एम्बुलेंस बिग्रेड का प्रबंध किया गया था। इस अवसर पर दिल्ली कमेटी के पूर्व अध्यक्ष एवं  जत्थेदार अवतार सिंह हित, मनजीत सिंह जी.के., आत्मा सिंह लुबाणा, डा. निशान सिंह मान, मनमोहन सिंह विकासपुरी, चमन सिंह साहिबपुरा, रविन्दर सिंह स्वीटा, परमजीत सिंह चंडोक, जतिन्दरपाल सिंह गोल्डी, भूपिन्दर सिंह भूल्लर, जगदीप सिंह काहलो, हरदीप सिंह पप्पू, परमजीत सिंह राणा, विक्रम सिंह रोहिणी, त्रिलोचन सिंह मणकू, अमरजीत सिंह पिंकी, सीनियर अकाली नेता जत्थेदार कुलदीप सिंह भोगल, दविन्दर सिंह खुराना, कुलमोहन सिंह एवं अन्य गणमान्य सज्जनों ने हाजरी भरी।
श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी का प्रकाश पर्व 13 जनवरी 2019 को गुरुद्वारा रकाबगंज साहिब में भाई लक्खीशाह वणजारा हाॅल मंे अमृत वेले से देर रात तक बड़ी श्रद्धापूर्वक मनाया जायेगा। इस अवसर पर होने वाले गुरमत समागम में पंथ प्रसिद्ध रागी जत्थे गुरुबाणी के मनोहर कीर्तन से संगतों को निहाल करेंगे।