प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रमों में ऋण वितरण में कोताही बरदाश्त नहीं

मोतीपुर, मुजफ्फरपुर, 4‍ दिसम्बर, 2018: प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, राष्ट्रींय शहरी जीविका मिशन, मत्स्य एवं मुर्गी पालन में सहयोग में तथा शिक्षा ऋण वितरण में कोताही बरदाश्त नही की जाएगी। उक्त बात जिलाधिकारी ने डीएलसीसी की बैठक में कही। उन्होंने कहा कि लचर व्यवस्था को दूर कर आम आवाम के लिए बैकिंग सुविधाओं को और आसान तथा सरल बनायें। बैठक में निर्देश दिया गया कि बढ़ते प्रदूषण और रिक्शा चालकों की दयनीय स्थिति को देखते हुए जरूरतमंदों और लाभुकों को ई रिक्शा उपलब्ध हो इसके लिए सभी बैंक अपेक्षित प्रयास करे। निर्देश दिया कि ऋण स्वीकृति हेतु शीघ्र कैम्प लगाया जाए।
प्रधान मंत्री रोजगार सृजन योजना में संतोषजनक उपलब्धि न होने पर डीएम ने कड़ी नाराजगी प्रकट करते हुए निर्देश दिया कि 15 दिन के अंदर लंबित आवेदनों के निष्पादन करे। 270 आवेदनों के विरुद्ध विभिन्नड़ बैंकों द्वारा मात्र 12 आवेदन ही स्वीकृत किये गए हैं। वहीं राष्ट्रीाय शहरी जीविका मिशन में भी आवेदनों की स्वीकृति में ढिलाई की गई है। वहीं शिक्षा ऋण की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि वितीय वर्ष 2018-19 में बैंक वार जिला का कुल लक्ष्य 89.64 करोड़ निर्धारित है। सितंबर 2018 के प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर शिक्षा ऋण के अंतर्गत 358 खताओं में 15 करोड़ का ऋण स्वीकृत हुआ है जबकि 11.03 करोड़ ऋण वितरण किया गया है। ऋण-जमा अनुपात के अंतर्गत बताया गया कि सितंबर 2018 कुल जमा राशि 14447.41 करोड़ कुल ऋण राशि 6734.29 करोड़। ऋण जमा अनुपात 46.61 है। नीलम पत्र बाद की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि 19376 लंबित वादों में 202.44 करोड़ की राशि का नीलाम पत्र वाद दायर है जिसमें 242 वादों में 6.38 करोड़ का ही निष्पादन हुआ है।
जिलाधिकारी द्वारा इस पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए नीलाम पत्र वाद दायर करने की प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश दिया गया। डीएम ने निर्देश दिया कि इस महीने के अंत तक कम से कम 500 सी०एस०पी खोला जाय ताकि लोगों को बैंकिग सुविधा आसानी से मिल सके। जिला मत्स्य पदाधिकारी को उनकी अनुपस्थिति को लेकर वेतन बन्द करने का निर्देश दिया गया। इस मामले में जिला कृषि पदाधिकारी से स्पष्टीकरण पूछा गया है। बैठक में इसके अतिरिक्त ACP की उपलब्धि, कर्मचारी भविष्य निधि, वार्षिक ऋण योजना, डेयरी, गृह ऋण इत्यादि की भी समीक्षा की गई। बैठक में एलडीएम, डीपीआरओ, रिजर्व बैंक के प्रतिनिधि, बैंकों के शाखा प्रबंधक, जिला समन्वयक उपस्थित थे।
-मोतीपुर से ब्‍यूरो चीफ राहुल कुमार की रिपोर्ट