कंबोडिया में अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय महासम्मेलन का आयोजन

नई दिल्ली, 2 दिसम्बर, 2018ः अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय महासम्मेलन कंबोडिया के अंगकोर वाट एरा होटल में संपन्न हुआ। इसमें 50 देशों के क्षत्रिय प्रतिनिधियों ने भाग लिया और क्षत्रिय समाज के अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक परिस्थियों पर विचार व्यक्त किया गया और द्वितीय विश्व क्षत्रिय सम्मेलन का आयोजन मलेशिया में कराने का प्रस्ताव पारित किया गया, साथ ही साथ संभावित देशों में थाईलैंड, कोरिया, जापान, मॉरीशस, इंडोनेशिया, वियतनाम, ब्रिटेन आस्ट्रेलिया, चीन, तिब्बत, नेपाल में विश्व क्षत्रिय सम्मेलन का आयोजन होगा। साथ ही साथ क्षत्रिय समाज को समाज के अधिकारों में आरक्षण एवं क्षत्रियों के राजसत्ता सृजन करने के लिए सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया।
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजा राजेंद्र सिंह ने इस महासम्मेलन की अध्यक्षता की। राजा राजेंद्र सिंह ने कहा कि आदिकाल से कंबोडिया में भगवान राजा रामचंद्र के वंशज सम्राट हर्षवर्धन के खानदान के लोगों का शासन चला आ रहा है। जिस कंबोडिया की धरती में आज हम क्षत्रिय महासम्मेलन कर रहे हैं, वह पावन धरती भगवान राजा रामचंद्र की है जहां पर विश्व का सबसे बड़ा मंदिर मौजूद है, जिसे विष्णु मंदिर के नाम से जाना जाता है, जिसका नाम कोटवाल मंदिर है जो कि एक प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण राजा हर्षवर्धन द्वारा किया गया था।
कंबोडिया में अंतरराष्ट्रीय क्षत्रिय महासम्मेलन में लगभग 50 देशों से अधिक क्षत्रिय प्रतिनिधि मौजूद रहे जिसमें भारत के कई राज्यों से क्षत्रियों ने भाग लिया, कंबोडिया की धरती पर विश्व के प्रत्येक क्षत्रियों ने अंतर्राष्ट्रीय निर्णय लेते हुए अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय बैंक निर्माण का भी प्रस्ताव पास किया जिसमें भारतीय मुद्रा के हिसाब से लगभग 50 लाख के ऊपर अनुदान देने की भी घोषणा की गई, जिसका क्रियान्वयन अतिशीघ्र किया जाएगा और जल्द ही विश्व स्तरीय क्षत्रिय जन संसद का गठन किया जाएगा और योग्य क्षत्रियों को सम्राट हर्षवर्धन शौर्य सम्मान से भी अलंकृत किया जाएगा।
अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय प्रमुख मीडिया प्रभारी/राष्ट्रीय महामंत्री उमेश कुमार सिंह का कहना है कि
भारत में क्षत्रिय जन संसद का गठन हो चुका है जिसमें भारतवर्ष के सभी क्षत्रियों ने सहमत होते हुए क्षत्रिय जन संसद का गठन स्वीकार किया है।
अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय जन संसद जो कि कंबोडिया में आयोजित हुई है जिसमें विश्व के प्रत्येक क्षत्रियों ने यह निर्णय लिया है कि भारत के अयोध्या में राजा रामचंद्र के राजमहल का निर्माण किया जाएगा। क्षत्रिय एकता सीमिती/राष्ट्रीय एकता मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राणा सिंह का कहना है कि विश्व के लोगों सहित क्षत्रियों ने एकमत में सहमति प्रदान की है अंतर्राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा के इस सम्मेलन में कंबोडिया के गवर्नर भी मौजूद रहे। भवानी सिंह (अध्यक्ष बुदेंला राजपुत सोसायटी तमिलनाडु), एस के राजू (अध्यक्ष कर्नाटक राजू क्षत्रिय सोसायटी), युवराज सिंह (बुदेंला राजपुत सोसायटी) श्री निवास राय कंबोडिया आदि प्रमुख लोग उपस्थित थे।