पलायन:तेजी से गुजरात छोड़कर भाग रहे हैं बिहार-यूपी और मध्य प्रदेश के लोग

गुजरात:अहमदाबाद में इन दिनों बिहार,यूपी और मध्य प्रदेश के लोग दहशत में जी रहे हैं। 28 सितंबर को साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर कस्बे के पास 14 महीने की बच्ची से कथित तौर पर रेप हुआ था। मामले में बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया गया था। बताया जा रहा है कि इसके बाद से ही गैर-गुजरातियों को टारगेट करना शुरू कर दिया गया। गांधीनगर, अहमदाबाद, साबरकांठा, पाटन और मेहसाना में इसका असर ज्यादा देखने को मिला है। यही वजह है कि यूपी, बिहार और एमपी के लोग गुजरात से पलायन कर रहे हैं। इन राज्यों में जाने वाली ट्रेन और बसें भी पैसेंजर्स से खचाखच भरी हैं। एहतियान तौर पर अहमदाबाद में 2500 पुलिस की तैनाती की गई है।
रोजी-रोटी के लिए गुजरात गए बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के लोग इन दिनों खौफ में जी रहे हैं। उन्हें डर है कि भीड़ उनके साथ मारपीट पर उतारू हो सकती है. यही वजह है कि इन राज्यों के लोग गुजरात छोड़कर अपने प्रदेश में लौट रहे हैं। गुजरात से बिहार, यूपी और एमपी आने वाली ट्रेन और बस यात्रियों से भरी है।
मध्य प्रदेश के भिंड अपने गांव लौटने के लिए बस का इंतजार कर रही राजकुमारी ने बात करते हुए कहा मेरा बेटा घर के बाहर गुरुवार को खेल रहा था. तभी कुछ लोगों ने उस पर हमला कर दिया. मेरा बेटा सदमे में है.राजकुमारी के पति घर चलाने के लिए रंगाई-पुताई का काम करते हैं. पूरा परिवार अहमदाबाद के चांदलोडिया इलाके में रहता है। वहीं भिंड के रहने वाले धर्मेंद्र कुशवाहा का कहना है कि बिहार, यूपी और एमपी के कम से कम 1500 लोगों ने उनके क्षेत्र से गुजरात छोड़ दिया है।
ट्रेवल्स कहते हैं,”यहां से यूपी, बिहार और एमपी के लिए दो दिनों में एक बस 25 पैसेंजर्स के साथ रवाना होती है. लेकिन इन बसों में अब 80 से 90 लोग सवार होकर जा रहे हैं. हर दिन 20 बसें यहां से रवाना हो रही है।
क्या कहना है पुलिस का?
हिंदी भाषियों पर हो रहे हमले को लेकर पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा ने शुक्रवार को बताया था, पिछले एक हफ्ते में गांधीनगर, साबरकांठा, पाटन, मेहसाना और अहमदाबाद जिलों में हमले हुए हैं।
उनके मुताबिक, सोशल मीडिया पर गैर गुजरातियों खासकर यूपी, बिहार के लोगों के खिलाफ मैसेज सर्क्युलेट होने के बाद ये हमले हुए हैं। उन्होंने यह भी कहा, लोगों पर हो रहे हमले को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।
गुजरात पुलिस के मुताबिक, हिंदी भाषी खासकर यूपी-बिहार के लोगों को टारगेट करने के आरोप में अब तक 342 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां अगले आदेश तक के लिए रद्द कर दी गई हैं। सुरक्षाबलों की 17 कंपनियों को तैनात किया गया है।