किंग जार्ज चिकित्सा विश्विद्यालय द्वारा विश्व बाल कैंसर दिवस के उपलक्ष्य में कैंसर जागरूकता रैली का आयोजन

लखनऊ, 07 मार्च 2018ः पीडियाट्रिक हिमेटोलाॅजी अंकोलाॅजी विभाग, किंग जार्ज चिकित्सा विश्विद्यालय द्वारा विश्व बाल कैंसर दिवस के उपलक्ष्य में कैंसर जागरूकता रैली का आयोजन प्रातः 10 बजे किया गया। उपरोक्त रैली पीडियाट्रिक हिमैटोलाॅजी अंकोलाॅजी विभाग से चलकर प्रशासनिक भवन पर समाप्त हुई। रैली में कैंसर से पीड़ित बच्चे जिनका उपचार चल रहा है एवं ऐसे बच्चें जो कैंसर को मात देकर अब स्वस्थ हो चुके है तथा उनके अभिभावकों एवं चिकित्सको द्वारा प्रतिभाग किया गया। इस अवसर पर चिकित्सा विश्वविद्यालय के मा0 कुलपति प्रो0 मदनलाल ब्रह्म भट्ट जी द्वारा एक पतंग को हवा में उड़ा कर कैंसर से लड़ रहे बच्चों के हौसलें को बढ़ानें का प्रयास किया गया एवं विभिन्न पोस्टर एवं पेंंिटंग प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मनित किया गया।
मा. कुलपति जी ने कहा कि विश्वविद्यालय के पीडियाट्रिक हिमैटोलाॅजी अंकोलाॅजी विभाग द्वारा सराहनीय कार्य किया जा रहा है। यहां विभिन्न प्रकार के बाल कैंसर के मरीजो को उचित उपचार प्रदान किया जा रहा है। बड़ों की अपेक्षा में बाल कैंसर का निदान सम्भव है। विश्व में बाल कैंसर रोग से पीड़ित 80 से 90 प्रतिशत बच्चो के कैंसर को ठीक किया जाता है। किन्तु दुःख की बात है कि भारत में इस औसत को अभी तक नही पाया जा सका है। इसका सबसे बड़ा कारण बाल कैंसर के मरीजों को देर से बाल कैंसर सेण्टरों पर आना एवं बाल कैंसर सेण्टरों एवं चिकित्सकों की कमी।
कार्यक्रम में प्रो. अचर्ना कुमार, प्रोफेसर इंचार्ज पीडियाट्रिक हिमेटोलाॅजी अंकोलाॅजी, विभाग द्वारा बताया गया कि बच्चों में रक्त कैंसर में सबसे ज्यादा काॅमन कैंसर एक्यूट ल्यूकेमिया होता है इसके अलवा लिम्फोमा के भी केस काफी संख्या में देखे जाते है। साॅलिड कैंसर में गुर्दे का कैंसर एवं रेटिनो ब्लास्टोमा सबसे ज्यादा पाया जाता है इसके अलावा न्यूरो ब्लास्टोमा, यकृत, हड्डी एवं विभिन्न अंगांे के कैंसर के मरीज होते है। बच्चों मे अभी तक कैंसर के कारणो का सही पता नही चल पाया है किन्तु यह कहा जाता है कि अधिकतर कैंसर जेनेटिक असमान्यता होने के कारण होते है। 2017 में चिकित्सा विश्वविद्यालय के बाल रोग विभाग में 450 कैंसर के मरीज पंजीकृत हुए थे। उत्तर प्रदेश में पीडियाट्रिक हिमैटोलाॅजी अंकोलाॅजी का सेण्टर के.जी.एम.यू. के अलावा बी0एच0यू0 में है। कैंसर से पीड़ित बच्चों का इलाज सम्भव हैं बच्चों के कैंसर का निदान किया जा सकता है किन्तु जरूरत है तो सही समय पर इसकी पहचान और पुरा इलाज की। अभी बहुत से ऐसे लोग है जो बच्चों का इलजा बीच मे छोड़कर चले जाते है। जिसकी वजह से कैंसर पुरी तरह से ठीक नही हो पाता हैै। के0जी0एम0यू0 में बाल कैंसर के मरीजों को 70 बेड पर भर्ती कर उनको उपचार प्रदान किया जा रहा है। इस अवसर पर कैंसर से पीड़ित बच्चों द्वारा अपनी इच्छाओं को पतंग पर लिखकर उड़ाया गया।
-अफजल अली शाह मदूदी, एडीटर, लखनऊ