पुत्री के जन्मदिवस पर एनजीओ – ‘न्यू इंडिया’ का शुभारंभ

एक अनूठी पहल करते हुए बैंगलोर स्थित अग्रणी बिज़नेसमैन, श्री विजय टाटा एवं उनकी पत्नी, श्रीमति अमृता टाटा ने अपनी पुत्री का जन्मदिवस यादगार तरीके से मनाया। उन्होंने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट, एक सेल्फ फंडेड एनजीओ- ‘न्यू इंडिया’ के लाॅन्च की घोषणा की। साथ ही गरीब सुविधाहीनों के लिए एक कैशलेस कैंसर केयर अस्पताल के निर्माण के लिए 200 करोड़ रु. का अनुदान दिया। इस अवसर पर अभिनेता इमरान हाशमी भी मौजूद थे। न्यू इंडिया की एक प्रमुख विशेषता है कि यह एक सेल्फ फंडेड संस्थान है और यह किसी अन्य से कोई भी राशि स्वीकार नहीं करेगा। यह दंपत्ति 6 सालों से 40 बच्चों को संरक्षण प्रदान कर रहा है और समाज को अपना योगदान देने की महत्वाकांक्षा बढ़ने के परिणामस्वरूप न्यू इंडिया का जन्म हुआ।
न्यू इंडिया – यह गैरलाभकारी संस्थान श्री विजय टाटा एवं श्रीमति अमृता टाटा द्वारा पूरी तरह से सेल्फ फंडेड होगा और गरीब सुविधाहीनों के जीवन में सुधार के लिए नई उम्मीद पैदा करेगा। इसका उद्देश्य महिलाओं, बच्चों को सेवाएं देकर लोगों की गंभीर बीमारियों का इलाज करना और स्टाॅप-रेप अभियान चलाकर बलात्कार पीड़ितों को न्याय दिलाना व उन्हें अपनी जिंदगी दोबारा शुरु करने में मदद करना है। न्यू इंडिया के पहले अभियान के रूप में दंपत्ति ने बैंगलोर में अतिबेल-अनेकल मार्ग पर स्थित 100 करोड़ रु. की जमीन ट्रस्ट को अनुदान में दी। इसके अलावा अतिरिक्त 100 करोड़ रु. का इस्तेमाल सुपर स्पेशियल्टी कैंसर केयर अस्पताल के निर्माण के लिए किया जाएगा। भारत के सभी गरीब सुविधाहीन कैंसर मरीजों को यहां पर निशुल्क इलाज प्रदान किया जाएगा। यह भारत में पहला कैशलेस अस्पताल होगा।
इस एनजीओ का उद्घाटन करते हुए बाॅलिवुड अभिनेता, श्री इमरान हाशमी ने कहा, ‘‘मैंने कैंसर मरीजों व उनके परिवारों का दर्द काफी नज़दीक से देखा है। गरीब कैंसर मरीजों को नई उम्मीद देने वाला न्यू इंडिया का अभियान सराहनीय है और मुझे खुशी है कि श्री विजय टाटा और श्रीमति अमृता टाटा जैसे लोग ऐसे महान अभियान के लिए आगे आए हैं।’’
इस प्रगति के बारे में श्री विजय टाटा ने कहा, ‘‘एक छोटा सा कदम कीर्तिमान स्थापित कर सकता है और प्रगति की शुरुआत छोटे से कदम से ही होती है। सभी के लिए हेल्थकेयर के हमारे माननीय प्रधानमंत्री के विज़न ने मुझे प्रेरणा दी। आज हमारा मुख्य उद्देश्य गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों की जिंदगी में सुधार लाने के लिए कार्य करना है। आज के समय की जरूरत है कि उन्हें सही मार्गदर्शन व समय पर निशुल्क व सही उपचार प्रदान किया जाए। न्यू इंडिया एक राश्ट्रीय अभियान है और भारत में सभी गरीब सुविधाहीन कैंसर मरीजों को यहां पर निशुल्क इलाज प्रदान किया जाएगा। हमें विश्वास है कि यह कैशलेस कैंसर अस्पताल इन लोगों के दर्द को कुछ हद तक कम करने में सफल रहेगा, क्योंकि यहां पर उन्हें इलाज के खर्च की पीड़ा से मुक्ति मिलेगी। देश की प्रगति अपने नागरिकों को हेल्थ एवं केयर प्रदान करने की इसकी सामथ्र्य में निहित है। हमारा उद्देश्य एक सेहतमंद भारत का निर्माण करना है।’’
श्रीमति अमृता टाटा ने कहा, ‘‘बदलाव लाने के लिए पहले व्यक्ति को बदलना होता है। कई लोग इस दिशा में काम करना चाहते हैं लेकिन हमारा सौभाग्य है कि हम अपनी बेटी के जन्मदिन के अवसर पर इस अभियान को शुरु करने में सफल रहे। हम समाज को अपना योगदान देना चाहते हैं और हमने इसके लिए पहला कदम आगे बढ़ा दिया है। न्यू इंडिया कैंसर मरीजों को व्यवहारिक केयर एवं समाधान प्रदान करना चाहता है, जिसमें निशुल्क उपचार एवं आफ्टरकेयर शामिल हैं। हम महिलाओं और बच्चों के लिए अन्य सामाजिक मामलों पर भी काम करेंगे।’’
इस अस्पताल में 150 बेड होंगे और इसे विभिन्न चरणों में पूरा किया जाएगा। प्रारंभिक चरण दिसंबर, 2018 तक पूरा हो जाएगा। यहां पर मशहूर आॅन्कोलाॅजिस्ट एवं कंसल्टैंट्स की सुविधा के साथ अत्याधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर होगा। अस्पताल का पूरा प्रोजेक्ट यूके स्थित आर्किटेक्ट एवं इंजीनियरिंग फर्म, बीडीपी, जो बिल्डिंग डिज़ाईन पार्टनरषिप के नाम से मशहूर है, द्वारा डिज़ाईन किया जाएगा। यह आर्किटेक्ट्स एवं इंजीनियरों की फर्म है, जहां यूके व विश्व में 900 से अधिक कर्मचारी काम करते हैं। प्लानिंग से लेकर एक्ज़िक्यूशन तक इस पूरे प्रोजेक्ट का क्रियान्वयन बीडीपी द्वारा किया जाएगा।
इस प्रोजेक्ट की स्थापना विजय टाटा और अमृता टाटा ने की है। ये दोनों बैंगलोर के अग्रणी उद्यमी हैं, जो ‘न्यू इंडिया’ व इसकी गतिविधियों के माध्यम से लोगों की जिंदगी में बदलाव लाना चाहते हैं। इस एनजीओ का उद्देश्य जमीनी स्तर पर जाकर भारत के विभिन्न हिस्सों में पार्टनर्स व स्थानीय समुदायों के साथ मिलकर काम करना तथा मुख्य समस्याओं को समझकर उनके समाधान के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना है। यह एनजीओ सहयोग के लिए पूरे भारत से स्थानीय एनजीओ व ऐच्छिक कार्यकर्ताओं को आमंत्रित करती है, ताकि इस विशाल अभियान को सफल बनाया जा सके। यह संस्थान सेल्फ-फंडेड है, लेकिन यह इस संदेश के प्रसार, हमारे उद्देश्य में सहयोग और न्यू इंडिया अभियान में ऐच्छिक सेवा के लिए भारतीयों के सहयोग की अपेक्षा करता है।
न्यू इंडिया एक सेल्फ-फंडेड एनजीओ है जिसकी स्थापना दो उदार उद्यमियों, विजय टाटा और अमृता टाटा के द्वारा की गई। यह एनजीओ समाज व देश को अपना योगदान देने के उनके उद्देश्य के फलस्वरुप स्थापित हुई और इससे उन्हें अपने सपनों की दिशा में आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त हुआ। न्यू इंडिया का आधार विजय और अमृता के इस विश्वास में समाहित है कि हम भारत को अजेय और खूबसूरत देश बना सकते हैं।
कीमोथेरेपी की एक सिटिंग में लगभग 90,000 रु. का खर्च आता है। कैंसर के पूरे इलाज का खर्च लाखों में जाता है। स्थिति तब गंभीर हो जाती है, जब किसी गरीब के लिए इलाज व दवाईयों का खर्च एक चुनौती बन जाता है। या तो उन्हें क्वालिटी केयर नहीं मिल पाती या फिर पैसे की कमी की वजह से उनका समय पर इलाज नहीं हो पाता। न्यू इंडिया गरीबों व जरूरतमंदों को कैंसर का निशुल्क इलाज उपलब्ध कराके कैंसर के खिलाफ लड़ाई के लिए समर्पित है। कैंसर से ज्यादा जानलेवा उसके इलाज का खर्च होता है। न्यू इंडिया को 100 करोड़ रु. मूल्य की 50 एकड़ जमीन मिल चुकी है। अब यहां पर गरीब सुविधाहीनों के लिए कैंसर अस्पताल बनाया जाएगा।