ट्रंप के निर्णय के खिलाफ लाखों लोग सड़कों पर उतरे

trump-us-presidentअमेरिकी फेडरल अपील कोर्ट ने देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विवादित शासकीय आदेश को बहाल करने से इंकार कर दिया है. ट्रंप ने इस निर्णय को एक ‘राजनीतिक फैसला’ करार दिया है.
ट्रंप के विवादित शासकीय आदेश के तहत सात मुस्लिम बहुल सात देशों से आने वाले शरणार्थियों और लोगों पर अस्थायी तौर पर 90 दिनों का बैन लगा दिया गया था. संघीय कोर्ट ने इस आदेश पर रोक लगाई हुई है.
तीन न्यायाधीशों वाली बेंच की ओर से सुनाया गया यह फैसला ट्रंप प्रशासन के लिए एक बड़ा झटका है. ट्रंप प्रशासन का कहना है कि उसका ये आदेश चरमपंथी (रैडिकल) इस्लामी आतंकियों को देश में आने से रोकने के लिहाज से एक बड़ा कदम था. ट्रंप ने कोर्ट के आदेश पर जल्दी ही प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया.
सैन फ्रांसिस्को स्थित नाइन्थ कोर्ट ऑफ अपील के फैसले पर गहरी निराशा जाहिर करते हुए ट्रंप ने लिखा, ‘‘आपसे कोर्ट में मिलते हैं, हमारे देश की सुरक्षा दांव पर है.
हमारी समझ में यह नहीं आता है कि क्या आने वाले शरणार्थियों पर रोक लगाने से आतंकवाद जैसी भयंकर समस्या से निपटा जा सकता है. क्या 90 दिनों का बैन लगाने से कुछ नतीजा सामने आयेगा? जब शीर्ष में बैठे लोग राष्ट्र विरोधी एवं मानवता विरोधी निर्णय लेंगे तो पूरे विश्व में अराजकता का माहौल बनता है.