विद्या भंडारी बनीं नेपाल की पहली महिला राष्ट्रपति

नेपाल में नया संविधान जारी होने के बाद हुए पहले राष्ट्रपति चुनाव में विद्या भण्डारी निर्वाचित हुई हैं। नेपाल में राजशाही खत्म होने के बाद भंडारी दूसरी निर्वाचित राष्ट्रपति हैं, जबकि नया संविधान जारी होने के बाद वे देश की पहली महिला राष्ट्रपति बनी हैं। राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने के साथ ही भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने टेलीफोन कर उन्हें बधाई देने के साथ ही भारत भ्रमण पर आने का न्योता भी दिया है।
bidya-bhandari-first-women-president 64 वर्षीया भण्डारी छात्र जीवन से ही नेपाल की कम्युनिस्ट राजनीति में सक्रिय रहीं। नेपाल की सत्तारूढ़ दल नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (यूएमएल) की उपाध्यक्ष रहीं विद्या भंडारी देश की रक्षा मंत्रालय सहित कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों को संभाल चुकी हैं। सत्तारूढ़ गठबंधन की तरफ से राष्ट्रपति की उम्मीदवार रहीं विद्या भंडारी विपक्षी नेपाली कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार कुल बहादुर गुरूंग को पराजित कर देश के सर्वोच्च पद पर आसीन हुर्इं हैं। राष्ट्रपति होने के साथ ही विद्या भंडारी नेपाली सेना की परमाधिपति भी बनीं हैं। नेपाल के नए संविधान के मुताबिक नेपाली सेना के संचालन और परिचालन का संपूर्ण अधिकार अब राष्ट्रपति होने के नाते भण्डारी के पास ही रहेगी। अत्यन्त ही मृदुभाषी और सौम्य स्वभाव की विद्या भंडारी भारत के प्रति काफी सकारात्मक और नरम स्वभाव की हैं। भंडारी के दिवंगत पति मदन भंडारी नेपाल में कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापकों में से एक थे, जिनकी सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी।